मुझे गृहणी बनने से डर क्यों लगता है?

Namrata Mishra is a Gender Culture and Development student from Krantijyoti Savitribai Phule Women's studies Centre
Namrata Mishra

बचपन से ही माँ से सुनते आई हूँ “बड़ी होकर तुझे शादी कर के अपने घर जाना है; वहां तुझे घर बसाना है!” 

यह वाक्य मेरी ही तरह और भी कई लड़कियों को सुनने मिलता है और मिला होगा। कारण यह नहीं कि माँ को उसकी पुत्री से प्रेम नहीं है और इसलिए वह चाहती है की लड़की दूसरे घर चली जाए। परन्तु कारण है शादी करने की मज़बूरी। शादी एक पितृसत्तात्मक ढांचा है और चूंकि हम पितृसत्तात्मक समाज में रह रहे हैं, शादी करना अनिवार्य है। यदि कोई शादी ना करके इस ढांचे को तोड़ने की कोशिश करता है तो, पितृसत्ता के बाकी कई सारे ढांचे लड़ने झगड़ने के लिए तैनात हो जाते हैं। माने, बिना शादी के ना घर ना परिवार ना गली ना मोहल्ला, ना देश ना दुनिया, कोई भी शांति से जीने नहीं देगा। खैर, पित्रसत्ता की समझ तो नारीवाद की क्लासों से आई।

उसके पहले तो बस मां की इन बातों पर या तो रूठ जाती थी या तो गुस्सा हो जाती थी।  मैं सोचती थी की मां ने शादी कर के या मेरे परिवार, रिश्तेदारों में और भी बाकी औरतों ने शादी कर के ऐसा कौन सा आनंद उपलब्ध कर लिया जो मुझसे छूट जाएगा यदि मैंने विवाह ना किया तो..?

Continue reading “मुझे गृहणी बनने से डर क्यों लगता है?”

Eight ways to stop blaming yourself for past toxic relationship that keeps haunting you

Akanksha Sharma is Founder at Indspire Me and a cat lover. She is also a Counsellor and an avid traveler. You can write to her at akanksha.sharma158@gmail.com for any queries.
Akanksha Sharma

Many of us have had the wretched experience of being in a relationship that, instead of adding happiness to our lives, brought us a lot of abuse, misery, and pain.

It’s that one relationship, which we can never forget, as much for the lessons learned as for the scars on our soul.

Even after years pass by, sometimes on a rainy day and sometimes after listening to an old and familiar song on the radio, we find ourselves dwelling on the hurt.

Our memories are bitter and full of imaginary recriminations; directed as much towards the ex-lover as it is towards our own selves. On good days, we are able to pull ourselves out of this cycle quickly. But on bad days, our mind starts falling into a loop of self-directed incredulity, harshness, and negative talk. As thoughts start to spiral out of control, we begin to question our judgments about people, our self-worth and even our identity. A question that we often find ourselves asking is, how did we let the abuse repeatedly destroy our entire self-worth for months and years.

Continue reading “Eight ways to stop blaming yourself for past toxic relationship that keeps haunting you”